Monday, 3 February 2014

love story of a friend - surya

 Hi friends, this is surya. I am going to share a best sex experience of my life. It was the time, when i used to live at Hyderabad for my job. I used to stay in a rented two room set. I have many good sexy girl friends at Hyderabad and so I am having a very fulfilled sex life at that place. One among all my good friends was a beautiful girl named chitra. She was 21 at that time. She was my class mate. We found interest in each other and finally met one day at hotel. Afterwards we had a real good time together for almost a year until, her father who was at a high post in the central administration was transferred to Bombay and so all their eventually had to move. Anyways, this story is not about chitra, but her younger sister veena. She was very much satisfied and happy with my performance in the sex sessions. We used to share drink and spend a large amount of time on bed. I loved to fuck that beautiful girl. Coming to the main event now.
One day, she introduced me to her younger sister veena on birthday party. veena was really terrific and far more beautiful and cuter than her sister. She was too young at that time, she studied at dhs high school at hyderbad in the 10th standard, the thought that she is very much younger than me could not let me lay my crush over her, but she was really amazing. She was almost 4'5'' in height but her looks were really cute. I guess, she was the most sexy girl in the whole city. Her face was very fair, and cheeks were red, small black round eyes and a small cute nose with a small pony up to her shoulders. Venna used to tell me that, she is very much frank with her sister and cares a lot for her. One day while me and chitra were playing on bed, chitra asked me that her sister venna has a crush on me and she would like to give some real pleasure to her sister. I thought, it wasn’t so wrong anyways, if venna wants it and even her elder sister wants it. So my love girl arranged my date with her younger cute sis venna, the very coming Saturday. I was very much excited about the day. As per schedule, chitra was going to drop venna at jubile road to have a date with me at 11 am and pick her back at 6 pm from my flat. I was little bit confused, as i never had much of communication with veena ever. To my excitement, i reached the brigade, which was our pet meeting place, at 10:30 am. I kept waiting for the lovely chicks and they were there just in 15 minutes. I welcomed my love chitra and then my dream venna by taking her small cute soft hand in my hand. The thought that i am going to have sex with this beautiful tight dream gal was making my dick wet and erect. I controlled myself to see off chitra as she had to go on for some work of her own as was planned between us. After that, venna was fully at my disposal. She was smiling all the time, really excited about the date. I decided not to hurry for as not to scare that tight girl for it was her first time. Her cheeks were shining as she was blushing like a rose.
I felt like kissing her that moment, but had to control my emotions as i was at a public place. Many guys were having eyes towards us. This gal was extremely sexy and beautiful. I had planned to have my breakfast with her, so we went to chinese restaurant in the banjarahills road. We had a nice chat while we finished our breakfast. It did not seem to me anymore that we were strangers at all. After that, i offered her to go to the down under pub, which is my favorite place and share drink. But she refused saying that she don’t drink at all. I decided not to waste any more time and offered her to come to my flat. She readily agreed, as this was what we were supposed to do. In the way on my bike, she held me tightly from behind and gave me a heavenly feeling of her cute small tits pressing on my back. It was fun all the way back to my flat. At my home, i offered her to sit on my bed and went inside the kitchen to pour some chilling coke for both of us. She seemed to be little confused while sitting on my bed, and of course it was natural, as it was her first time, but she also looked very much excited and this motivated me to go ahead. I took out my half left smirnoff bottle and poured 60-60 ml into both the glasses, added coke to both up to full and then poured in fresh lime juice (friends, try this drink. You will surely enjoy it) i offered her the drink. She took a sip and said that it tastes different and not like coke, but good. I smiled and said, i have some real good tastes, as in gals so in drinks. We chatted along with drinking for some time. We continue drinking one after the other, until she started enjoying the nasha of vodka and of course the pre sex excitement. I stood up and sat next to her with my body touching hers from the side. She laid her head on my shoulders and closed her eyes. I made her lie down on the bed and got over her. Now, it was my time to taste her to each and every limit. I started it from her beautiful closed eyes. I planted one small kiss on each of her eyelids. Then i kissed her beautiful nose tip. I was holding myself not to hurry and enjoy each and every moment. Then i sucked her cheeks, oh, it was wonderful. And now was the turn of her rose petal lips.
My heart was pounding at great speed while i took her lower lip in my both lips and wiped my tongue on her lip. I was not new to sex, it had been like a cup of tea for me all the time at bangalore, but still this gal was sending in shocks through my spine. I could not hold on any longer and locked my mouth with hers. I tried to taste her tongue and was greeted readily by here as she tried to suck my tongue. The taste was really wonderful, at that moment i felt that i want this gal to be mine forever at all costs and i can do anything to get her. We carried on our passionate kiss for few minutes, then i moved to her cute tits. I tried to feel her tiny cute boobs from above her t-shirt. On feeling my grip on her tits, she gave out a soft moan. I got pretty excited from the looks on her face. I pulled up her t-shirt and planted a kiss on her fair cute tummy. I rolled up her t-shirt and she cooperated to let it uncover her boobs and the next very moment, the t-shirt was off her body. Now i could see her small cute tits trying to look beyond the beautiful black bra of hers. I could not hold on longer to let myself deprived of the taste of her naked cute boobs. I inserted both my hands from her back and tried to look for her bra hook. She lifted her body in order to make the things easier for me. Within a second i freed up her cute tits from any kind of cloth. Oh, the scene was driving me crazy, like i had never been before. Her small tits were very fair with a pink accent. Her beautiful nipples were fully erect to the excitement. I caressed one of her nipples with my lips and tried to make it grow more into my mouth by stimulating it with my tongue. Meanwhile, i laid my hand on her other nipple, trying to feel its growing dimensions. At this, veena started moaning in pleasure. I kept tickling her senses for some time and i then i tried to suck her boobs one by one by trying to take all of the tasty stuff into my mouth. I played my mouth on her tits until they turned red in heat and excitement. Venna, tried to sneak her hands inside her jeans in order to reach her cunt, this indicated to me that, now is the time to give my cute darling more.
I interrupted her attempt and opened the button of her jeans. Taking no more time, she lifted up her hips and i pulled down her jeans up to her knees. She was wearing a black panty. I guess, black was her favorite color. She again tried to reach her hand to her cunt, but again i interrupted and offered my services to satisfy her hot desires. I pulled down her panty to find a hairless cleaned beautiful golden gate. She really prepared herself well for the event. I could feel the wetness of her pussy lips with my hand rubbing smoothly on her pink tight cunt. My touch on her cunt sent a shiver through her and she gave out a soft moan.i knew, this all was going to be really great. To add to the situation, i turned on some seducing music numbers. As she laid on the bed with her feet hanging from the side and her jeans and panty still on her knees, i pulled off her shoes and socks along with the jeans and panty as i don't want any formalities in sex, now her lovely cute naked body was in front of me in its full glory. She was watching my eyes scanning her beautiful body. She gave a smile, got up and reached to pull of my t-shirt, which i helpfully let her. Next i took of my banyan, meanwhile she was unhooking my jeans. I could hear her breath getting heavier and heavier as she pulled my jeans down. I helped her by taking off my shoes and socks to provide a way for her to pull off my jeans completely :) she got a little brave at this and pulled down my undies at once freeing up my hot erect rod. She looked into my eyes and asked "can i play with it?" i said, "all yours, love". She took my dick in both her small cute hands which felt so smooth and planted a kiss on the bulging tip of my dick. The feeling of her lips touching my organ sent out a shivering wave in my body. With my dick in her beautiful soft hands, she asked me to lie down on the bed, which i was more than obedient to do. She knelt down between both my legs and took the bulging tip of my dick in her mouth. She licked my dick for sometime until it was hard and erect to its maximum. I liked the job done by her lips, so i pulled her towards me in order to reward her beautiful lips by locking them with mine and let her taste my tongue. We both were now hot and excited to the limit. I made venna lie on the bed facing the ceiling widened her legs to knelt there.
I bent over her cunt in order to do what i liked the most in sex. I touched her beautiful wet cunt with my tongue and she gave out a soft moan. I grasped her clit between my lips and pulled my lips to let it slide over her clit. At this, she shivered and gave out a soft cry. I repeated the same sequence for some time until she was moaning loudly which was exciting me to hell. Then i pushed the tip of my tongue into her tight virgin cunt and grasped the swollen lips of her pussy with my lips. I started sucking madly and along with i continued to swirl my tongue. This made her go crazy and she was screaming in joy. She was pinching her nipples with her one hand and her other hand was on the back of my head with her cute little fingers combing through my hair. I continued this for few minutes, and she gave out a loud cry in pleasure along with flooding my mouth with her sweet juices. She was shaking in pleasure and screaming loudly. I continued sucking with both of my hands on her hips holding them tightly so as to feel the vibrations of her body. I sucked her for few more moments until her orgasm calmed down. I looked at her face, her small eyes were closed and there was a beautiful smile on her face. She was still enjoying her first orgasm. She was looking so beautiful, sexy and appealing at that time. I got over her and hugged her tightly and sucked her lips. She responded so as to reward me for the good work. Now was the time for this beautiful chick to loose her virginity, i thought. So, i got in the field again and asked her to bend her legs on knees, and lift her hips. I pushed a pillow under her buttocks so as to lift her cunt to the height of my dick while i knelt. I rubbed the bulging tip of my dick over her wet tight cunt. I let the tip of my dick fondle with her excited clit. I kept rubbing my dick on her cunt for sometime so as to wet it with her sweet juices thoroughly.
She liked it and motivated me by her soft moaning. I got excited at her moans and tried to push my dick inside her cunt, but in vain. The tip of my dick tried to find a little space for itself to adjust in but this made chitra cry in pain and she tried to resist the insertion. I gave up this attempt and tried to finger fuck her little tight cunt. I started with my index finger with its tip rubbing on her clit and then pushed my finger a little inside her clit while she was moaning in pleasure. I tried to push my finger inside her further and kept rubbing her clit with my other hand. On further insertion, i felt signs of little pain on her face, but she did not stop me. Now i started a little to and fro movement of my finger inside her pussy and started licking and sucking her clit with my tongue. I pushed in my middle finger also along with to accompany my index finger to the same depth. Not wasting much time, she started shaking again in pleasure. She was about to cum again. The moment she screamed as her orgasm was on peak, i pushed my two fingers as deep as i could into her cunt. She was screaming loudly and i could clearly see blood mixed in her juices flowing out of her pussy. I did not want this to end here, so the next moment i pressed my dick on her cunt and pushed it inside with a thrust. I made her sit on my lap while we drank. Her sexy ass pressing on my limp dick made it rise again to its full glory. She was enjoying the bulge of my dick against her ass cheeks. While we were drinking, we kept kissing each other on lips, neck. I licked her ear lobes and she was turning hot again. I asked her to take a mouthful of drink and kissed her sipping drops through her lips. We kept this foreplay go on for some time. As both of us were excited again to the limit, as soon as finished the drink we started it again. This time, i wanted to try a new pose. I got up off bed and made her stand on the bed. I lifted her up and carefully made her cunt rest on my dick. She embraced me with her legs resting on my hips and her arms around my neck with her lips locked with mine. In the same pose i inserted my dick into her vagina, which was still very tight but wet, which helped her cunt to slide over my dick and her weight helped her depth to cover all of my dick's length. She felt a little pain again at this, and broke out the lip contact to gave out a cry, but she was enjoying it now. My dick was fully inserted into her cunt, her small tits were rubbing with my chest and her lips were locked with mine. She started shaking her body up and down to make her cunt walls rub on my dick and her tits surf on my chest.
She was in her full heat and jumping like a mad on my dick. She was screaming in excitement. She screamed like this, that made me feel as if she is crying but she was not, her sexy moans were driving me crazy and i was enjoying each micrometer of her cunt walls rubbing on my dick. Soon, she had her third orgasm, and was shaking in my lap. She closed her eyes in pleasure. I hugged her tightly so as to feel the vibrations of her body. While she was enjoying her orgasm, i took her to the bed and fucked her. Now, she was having a very good time, as she was smiling and laughing while looking into my eyes. I was kissing her lips and tits again and again while i continued my fucking. After sometime, i felt reaching the climax. I asked her to get over me without taking out my dick from her enclosure. Now i was lying on bed and she was jumping on my dick. Soon i reached the limit and my dick started rewarding her soft, tight cunt for the second time. She continued and did not stop even my dick calmed down. I asked her that my dick needs the magic of her tongue. She got up and said "i am your bitch, fuck me like a bitch as if u r my dog" wow, she was leading now. She got into doggy style, and i got off the bed. I was standing on the floor and she was in the doggie pose on the bed. The elevation of dick was almost fitting against her cunt facing my dick hungrily. I gave a little kiss on her cunt lips. I grasped her beautiful ass cheeks with both of my hands, and let my dick find its way into her pussy. She was laughing like a baby and moaning with pleasure. I started the fuck motion and she started screaming in joy. She was screaming "oh, u r so good, i love u. U r only mine. Be always with me, i love u" i was responding "oh, you r so wonderful, i love you badly. I want u forever. You are my bitch". After some time, i pushed her further on the bed. I piled up two pillows and asked her to rest her body on the pillows so as to elevate her cunt from the bed.
I laid my body over her back, crossed my legs with her, and entered her cunt from behind. Her little boobs were hanging over the pillow's edge, i hugged her from the back and kept fucking her. Now i got hold of her boobs and was pinching her nipples and pressing her small tits. I was biting her cheeks and licking her ears. She also tried to turn her neck and kiss me whenever she can. We continued this session in the same pose for a very long time, meanwhile she did hit her 4th orgasm and made my pillow wet, after some more time, i again reached the climax. Without wasting any time i asked her to change pose. Again, i made her get over me and jump over my dick. I smashed my semen again in her beautiful cunt for the third time. I held her tits in my hands and was pressing them badly while i was cumming in her cunt. I was satisfied and very tired now, but she did not want to stop. My dick was turning limp again, but still she continued. She was rubbing her clit with her hands along with, and i was supporting her by pressing her tits and pinching her nipple. And what next!!!!! She did cum again. My dick inside her cunt could feel her liquids oozing between my dick and her cunt walls. She dropped over me into a passionate kiss. We were hugging each other tightly and enjoying each and every moment. We both were very much satisfied now and tired too. As the effect of alcohol was also overwhelming, we kept kissing each other until we both fell asleep. At about 6:45 pm, i woke up hearing the door bell. Veena was still sleeping. I covered her with the bed sheet.
I put on my clothes to and went to open the door to find, it was chitra, who brought pizza along with. I welcomed her, and kissed her after closing the door. Chitra asked "how my sister?", i said "she is sleeping, and she is amazing". Chitra smiled at me and kissed me on lips. She went inside my bedroom and i followed her. She took the bed sheet off the sleeping beauty and said smiling at me "isn’t she lovely?". I said, "she is terrific". Veena woke up on hearing our conversation. She was having little headache cause of the alcohol effect. She got up and hugged me with a smile. Chitra came to me and i took her in my arm and veena in the other. Oh, i was feeling so lucky to have such sweet girlfriends. After that we shared pizza after chitra took a bath and got dressed up. I saw my girlfriends off with a promise to have such encounter again, it were really the best of my days. I can recall each and every moment of that day as i enjoyed them the most. For some reasons, i was never able to have sex with veena again, but continued with chitra for a long time until, they had to leave the city. So, this was the best of the best ever experience of my life that i shared with you. I hope you all enjoyed reading it.

Wednesday, 4 July 2012

porn

एजूकेशन बोर्ड में किसी काम से जाना पड़ा। मुझे अपना काम निपटाते हुए मोहाली में ही शाम के पाँच बज गए। मैं बस स्टैंड पहुँचा तो कुछ राहत मिली कि रात्रि सेवा के तहत रात की सर्विस थी। मैंने विडियो कोच का टिकट लिया और बस में बैठ गया।
वहाँ से बस फुल होकर चली। मैंने टू-सीटर सीट ली, मेरे साथ एक अच्छा खासा मर्द बैठा। मेरी नज़र बार बार उस पर जा रही थी, उसके लौड़े वाले स्थान पर !
मुझे वो मर्द बहुत पसंद आया। उसने भी नोट किया कि मेरी निगाहें उसके फूले हुए हिस्से पर जा रुकती हैं।
मुझे लगा कि वक्त अ गया है अपना जाल बिछाने का !
मैंने कहा- आप कहाँ जा रहे हो? क्या करते हैं?
ऐसे ही उसने भी मुझसे कुछ सवाल पूछे। मेरे बोलने का स्टाइल और चेहरा वो पढ़ रहा था।
थोड़ा अँधेरा सा हो रहा था। जैसे ही बस नवां शहर पहुँची तो काफी बस खाली हो गई और इस बस में रास्ते की सवारी नहीं लेते थे। मैंने देखा कि अब सामने वाली सीट खाली है, किसी की नज़र अब मेरे ऊपर नहीं पड़ने वाली।
तब बाहर पूरा अँधेरा छा गया था।
मैंने उसके साथ फिर से बातें करनी शुरु की। इस बार मैंने टोपिक और ही चुना- आप बहुतहैण्डसम हो ! आपकी बीवी भाग्यशाली होगी।
वो बोला- अच्छा !
मैंने कहा- बिल्कुल !
मैंने अपना हाथ उसकी जांघ पर रखते हुए कहा- और नहीं तो क्या ! इतनी जबरदस्त बॉडी है, मजबूत जांघें हैं ! और क्या चाहिए किसी को !
वो कुछ नहीं बोला।
मैंने अपना हाथ उसके फूले हुए स्थान पर रखते हुए कहा- आपका तो यह भी बहुत कड़क लगता है? और क्या चाहिए किसी को?
मैंने पैंट के ऊपर से ही उसको सहलाना शुरु किया। अब उसने अपना हाथ मेरे गले में डाल दिया और मैंने अब आराम से सहलाते हुए कहा- कैसा लग रहा है?
"बहुत अच्छा !"
मैंने उसकी जिप खोल हाथ अन्दर डाल दिया और उस पर हाथ फेरते हुए जड़ तक उसका मुआयना किया- बहुत सॉलिड पीस है आपका !
बोला- अच्छा लगा?
मैंने कहा- बहुत अच्छा !
हम आगे बढ़ने लगे। तभी लुधिआना आ गया, बस रुकी, कंडक्टर ने सबको कहा- अगर किसी ने खाना वगैरा खाना है तो खा लो। बस 30 मिनट रुकेगी।
ज्यादा लोग नहीं थे बस में ! सभी यात्री उतर गए, न वो उठा न मैं !
सिर्फ उठा तो सबसे पिछली सीट पर जाने के लिए उठा, बोला- यह पैसे पकड़, नीचे से कोई कोल्ड ड्रिंक पकड़, साथ प्लास्टिक के ग्लास !
उसके पास विह्स्की का पव्वा था, उसने दो पैग डाले और दोनों ने डकार लिए। मैंने अब जी खोल उसके पप्पू को निकाला और देखता रह गया। सांवला लौड़ा मेरी कमजोरी है।
मैंने उसको सहलाते हुए चेहरा झुकाया और चूसने लगा। वो मस्त होने लगा।
तभी सीटी की आवाज़ सुन हम सीधे हो गए। बस चल पड़ी। सिर्फ दस के करीब सवारी बचीं थी। उनमें से चार तो कपल्स थे, सभी बैठ गए।
कंडक्टर आगे ड्राईवर के पास बैठ चुका था। उसका काम अब ख़त्म था।
सभी जोड़े एक दूसरे से चिपक रहे थे, हम आखिरी सीट पर थे, पूरी लम्बी की लम्बी सीट !
नशे के सरूर ने मुझे पागल कर दिया, मैं घुटनों के बल बैठ गया और लौड़ा निकाल कर चूसने लगा। सफ़र की वजह से मैंने सिर्फ लोअर पहना था, उसने नीचे खिसकाते मेरी गाण्ड पर हाथ फेरा तो मेरी प्यास बढ़ गई। उसने अपनी ऊँगली गीली करके गाण्ड में डाल दी। वो उंगलीबाज़ी करने लगा और मैं उसका लौड़ा चूसने लगा।
इतने में जालंधर आ गया।
वो बोला- तू मेरे साथ चल ! मुझे तेरी गाण्ड मारनी है।
"लेकिन कहाँ?"
वो बोला- यहीं पास ही मेरे दोस्त ने कमरा लिया हुआ है, वो दिल्ली से यहाँ पढ़ने आया है, अकेला रहता है।
"चलो चलते हैं !" मैंने कहा।
ह्मने रिक्शा किया और पहुँच गए। बाहर रुक कर उसने अपने दोस्त को मोबाइल किया और बताया।
अन्दर जाकर देखा, वो भी बहुत हैण्डसम था।
बोला- यह सनी है। बस में इसके साथ दोस्ती हुई और इसको खुश करना है।
"ओह ! समझ गया दोस्त !"
"दारू पड़ी है?"
बोला- है !
हमने दो दो पैग लगाये। नशा आते ही मैं बेशर्म बन गया और उसका एक एक कपड़ा उतार दिया और लौड़ा चूसने लगा। दूसरे वाले ने मेरा लोअर खींच दिया और मेरी गाण्ड सहलाने लगा।
पहले वाले ने खींच कर मेरी शर्ट उतार दी, मेरे लड़की जैसे मम्मे देख दोनों दंग रह गए।
वो सीधा लेट गया। मैं उसके लौड़े पर बैठा हुआ उसको पूरा अपनी गाण्ड की गहराई तक पहुँचा लिया और खुद आगे-पीछे होकर चुदने लगा। वह साथ में मेरा मम्मा मुँह में लेकर चूस रहा था। उसका दोस्त मेरे पास आया, मैंने उसका लौड़ा निकाल लिया। क्या सॉलिड था वो भी गुलाबी लौड़ा ! मुंह में पानी आ गया और मैंने झट से चूसना चालू किया। पहला वाला दनादन मेरी गाण्ड पर वार करने लगा।
मैं घोड़ी बन गया उनकी ओर अपनी गाण्ड घुमाई पहले वाले ने थूक लगा कर अपना फिर से अन्दर डाल दिया।
उसका दोस्त मेरे सामने घुटनों के बल खड़ा लौड़ा चुसवा रहा था। दो लौड़े देख मुझे सेक्स चढ़ने लगता।
बोले- साले, तू लड़की जैसा है, कितना नाज़ुक और चिकना है तेरा बदन ! ऊपर से यह मम्मे कोई सतरां साल की लड़की जितने होंगे !
"सालो, दबवा-चुसवा कर ऐसे हुए हैं ! चोदो बस मुझे अभी !"
'ले साले, दो लौड़े एक साथ डालेंगे !"
"फट जाएगी मेरी !"
"देखता जा बस !"
वो गया, फ्रिज में से खीरा लाया काफी मोटा ! उसने अपने दोस्त को दिया। पास में से बीयर की बोतल उठाई उसने लौड़ा निकाला और पहले बीयर की बोतल घुसाई और उसी से चोदने लगा।
मैं दोनों के लौड़े बारी बारी चूस रहा था।
उसने बोतल एक तरफ़ रख खीरा मेरी गाण्ड में घुसा दिया। काफी मोटा था, थोड़ा सा तेल लगा करीब 5 मिनट दोनों ने खीरे से मुझे चोदा। देखते ही देखते मैं पूरा खीरा अन्दर डलवाने लगा।
फ़िर एकदम खीरा निकाला, दोनों ने लुब्रिकेंट कंडोम डाल लिए और एक सीधा लेट गया और मैं उसके लौड़े पर बैठ गया। पूरा अंदर घुस गया। साथ में उसने अपनी दो उंगलियाँ भी डाल दी। पूरा घुसने पर उसने मुझे अपने साथ चिपका लिया अब पीछे से मेरी गाण्ड चौड़ी हो गई, दूसरा पीछे बैठ गया उंगली निकाल उसकी जगह लौड़ा रखते ही दबाया और उसका सुपारा घुस गया।
"छोड़ दो प्लीज़ !" मैंने कहा,"एक-एक करके लो !"
'मरोगे नहीं !"
और आधे से ज्यादा लौड़ा घुसा कर रगड़ने लगा। मेरा बुरा हाल था पर धीरे धीरे सकून मिला और वो धक्के लगाने लगे।
एक बार दोनों ने मुझे दो लौड़े डाल कर दिखा दिया फिर एक ने निकल लिया और दूसरे ने तेजी से गाण्ड मरते हुए अपना माल कंडोम में छोड़ दिया। दूसरा चढ़ा और उसने भी कुछ देर फाड़ने के बाद एकदम कंडोम उतार दिया और पेल दिया।
हम तीनों हांफने लगे, वे दोनों मेरे साथ चूमा-चाटी करते रहे और मैं उनके लौड़े सहलाता रहा जिससे आधे घंटे में दोनों के फ़िर से तन गए और फिर शुरु हुआ दूसरा दौर।
दो दो बार चोदने के बाद हम वहीं सो गए नंगे !
सुबह ग्यारह बजे आँख खुली ! मैं झट से उठा लेकिन उसके दोस्त ने मेरी बांह पकड़ कर रोक लिया, बोला- कितनी गर्मी है बाहर ! कल सुबह सुबह निकल जाना ! एक रात रुक ! रात को तुझे और मजे दिलवाऊँगा अपने दो दोस्तों के साथ !
मुझे ग्रुप सेक्स का शौक है।
वो बोले- पास में दो और गाण्डू रहते हैं, साथ-साथ करेंगे।
मैं मान गया और फिर हम तीनों नहाने लगे। बाथरूम में फिर ठुकाई हुई मेरी !

Manjri bhabhi ke saath मंजरी भाभी

मैं अहमदाबाद का रहने वाला हूँ, 30 साल, 5'10", औसत शरीर वाला समार्ट लडका हूँ। यह कहानी आज से 9 साल पहले की है, तब मेरी उमर करीब 21 साल की थी, तब मैं थोड़ा पतला था।
मैं कुछ नहीं करता था क्योंकि मैं डिप्लोमा की परीक्षा में फ़ेल हो गया था और परीक्षा को अभी बहुत समय था तो पिताजी ने मुझे अपने एक दोस्त के यहाँ नौकरी पर लगा दिया। वहाँ पर लगभग हर रोज ही एक महिला आती थी। उनका नाम मंजरी (नाम बदला हुआ) था। जब भी वो आती अंकल मुझे खाना खाने के या कुछ भी बहाना करके वहाँ से भेज देते। वैसे तो उनका भतीजा भी मेरे साथ वहीं पर काम करता था और मेरी और उसकी अच्छी पटती थी, तो एक दिन मैंने उससे पूछ ही लीया। तब मुझे पता चला कि मंजरी का पति उनको मारता था, शराबी और जुआरी भी था तो वो अंकल से मदद लेने आती थी। और उसने मुझे यह भी बताया कि उसने उसके साथ मजे भी किये हैं। तो मैंने पिताजी के दोस्त के भतीजे को मेरे लिए कुछ करने के लिए कहा। उसने शायद मेरे लिए बात भी की मगर शायद वो कुछ डर रही थी इसलिए मना कर दिया।
अरे हाँ ! मंजरी भाभी के चूचे बड़े नहीं पर हाँ कसे हुए थे। जब भी मैं उन्हें देखता था मेरा लण्ड तो मेरे अन्डरवीयर से निकल कर मेरी नाभि तक आ जाता था। उनका कद करीब 5' 2", कमर पतली और एकदम सफ़ेद जैसे दूध से धुली हो। मेरे मन में बस उन्हें पाने की इच्छा जाग गई थी।
तो आखिर वो दिन आ ही गया। अन्कल किसी काम से बाहर गये हुए थे, और वो आ गई, मुझ से कुछ सामान लेकर बात करनी शुरु की, मैं तो बस उनके चेहरे को ही सामने से देखता रहा, जैसे ही उनको पता चला, वो कुछ शरमाने लगी और हंस कर बोली- मेरे चेहरे पे मोर लगे हैं क्या?
मुझे लगा अगर हंसी तो फ़ंसी।
और अचानक ही मैंने उनसे अपने मन की बात कह दी। पहले तो वो कुछ बोली नहीं, पर कुछ देर बाद मुझसे वादा लेते हुए कि किसी और से यह बात नहीं कहने का मुझे अपना फ़ोन नंबर देकर हंसते हुए चली गई।
दो दिन बाद जब मैंने उनके नम्बर पर फ़ोन किया, तो फोन पर वही थी, हमने थोड़ी देर इधर उधर की बात की, फिर बात करते हुए मुझे लगा कि उनके घर पर कोई नहीं है, तो मैंने उनको मिलने की इच्छा जताई। थोड़ी ना-नुकर के बाद वो 10 मिनट के लिए मान गई।
उतने में अन्कल आ गये और मैं उनसे बहाना करके तुरन्त मंजरी घर पहुँच गया।
उन्होंने मुझे घर के अन्दर बुलाया के और मेरे सामने कुर्सी रखकर मुझसे बातें करने लगी। मेरा ध्यान तो बस उनके बदन पर ही था। मुझे लगा आज मौका नहीं मिलेगा क्योंकि घर के सामने के मैदान में सोसायटी के बच्चे खेल रहे थे। तो मैंने भी उनसे पानी का बहाना किया।
जैसे ही वो पानी लेने के लिए रसोई में गई, मैं उठकर अन्दर के कमरे में जाकर बिस्तर पर बैठ गया। उन्होंने मुझे देख लिया था तो वो भी पानी लेकर अन्दर कमरे में आ गई। मैंने भी पानी पीकर ग्लास उन्हें दिया, जैसे ही उन्होंने ग्लास लेने के लिये हाथ आगे किया मैंने उनका हाथ पकड़ कर अपने पास बिठाकर उन्हें चूमना शुरु कर दिया।
तभी वो अपने को छुड़ा कर एकदम उठी, पर तब तक वो गर्म हो चुकी थी, क्योंकि उनकी आँखें सब बता रही थी। अचानक वो बाहर चली गई और मुझे लगा आज भी मुझे खाली हाथ जाना पड़ेगा। पर उतने में वो घर के सारे दरवाजे बन्द करके मेरे पास आकर बैठ गई और मेरा हाथ पकड़ लिया।
बस फिर क्या था मैंने भी उनको पकड़ कर होंठों पर चुम्बन करना चालू कर दिया, फिर उन्हें बिस्तर पर लिटाकर जबरदस्त चूमा-चाटी शुरु कर दी। धीरे-धीरे मैंने उनके मम्मे दबाने शुरु कर दिये, अब वो भी मेरी जीभ चूस रही थी और मैं उनकी। फिर मैंने उनके ब्लाउज के सारे बटन खोल दिए, उन्होंने नीचे काली ब्रा पहन रखी थी, मैंने ब्रा का हूक खोलकर उनके दूध को चूसने का कार्यक्रम शुरू किया।
धीरे-धीरे मैंने उनकी साड़ी को पेटीकोट के साथ जैसे ही ऊँचा किया, तो मैंने देखा कि उन्होंने पेन्टी तो पहनी ही नहीं थी। मैंने हल्के से एक उंगली उनकी चूत में जैसे ही डाली, वो एकदम से सिहर गई, धीरे-धीरे मैंने दूसरी, फिर तीसरी उंगली डाली। उन्होंने मुझे कस कर पकड़ लिया और मुझे अपने होंठों के पास लाकर मेरे होंठों को कस कर चूसने लगी।
तुरंत ही मेरी उंगली में कुछ गीलापन महसूस हुआ। तब मुझे लगा कि शायद उन्हें पेशाब आ गई क्योंकि वह मेरा पहला अनुभव था, मुझे तो बाद में पता लगा कि औरतें भी झड़ती हैं।
फिर उन्होंने मेरी पैंट में हाथ डाला और मेरे लण्ड को पकड़कर हिलाने लगी, मुझे तो अब और भी मज़ा आने लगा। फिर उन्होंने मुझे पैंट निकालने को कहा। तो मैं पूरे कपड़े निकालने ही जा रहा था कि उन्होंने मुझे रोका और कहा- आज इतना वक्त नहीं है, तुम सिर्फ़ पैंट को नीचे कर लो।
जैसे ही मैंने पैंट को नीचे किया और उन्होंने मेरे लण्ड को जैसे ही देखा, वो तो बस मेरे लण्ड को एक बारगी तकती ही रह गई, और फिर अचानक फटाक से मेर लण्ड पकड़ कर मुँह में ले लिया और मेरी गोलियों से मजे से खेलने लगी, कभी कभी उनको भी मुँह में भर कर चूसने और चाटने लगती।
चूंकि मेरा यह पहला अनुभव था मैं तो जैसे सातवें आसमान पर था, मुझे तो इतना मज़ा आ रहा थी कि बस पूछो मत। मेरे मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगी।
मैं भी अब जोश में आने लगा था, मैं उनका सिर पकड़कर आगे-पीछे करने लगा, एक बार तो उनका सर पकड़ कर लण्ड पर ही पूरा दबा दिया। पर जैसे ही मैंने उनको देखा, उनकी आँखों से पानी निकलने लगा, तो मैंने अपनी पकड़ ढीली कर दी और उन्हें ऊपर लाकर उनके होंठों पे, गालों पे, कान के नीचे चेहरे पे हर जगह चूमना चालू कर दिया।
उन्होंने मुझे मेरे कान में कहा- आज तक मैंने किसी का मुँह में नहीं लिया, पर पता नहीं तुम्हारे उस में क्या खास बात थी जो मैंने उसे मुंह में भर लिया, सच में तुम्हारा बहुत मस्त है।
वो अभी भी शायद कुछ शरमा रही थी, इसीलिये लण्ड शब्द का प्रयोग नहीं कर रही थी।
इतना बोल कर वो तो जैसे पागल होने लगी थी और मेरे लण्ड को अपनी चूत पर जोर जोर से रगड़ने लगी। अब मेरा भी अपने पर काबू करना मुश्किल हो रहा था, तो मैंने उन्हें धक्का मार कर बिस्तर पर लिटा दिया और लण्ड को चूत पर रख कर धक्का मारना शुरु किया, पर मेरा लण्ड फिसल कर इधर उधर जाने लगा तो उन्होंने मेरा लण्ड पकड़ कर चूत के छेद पर टिका कर मेरे नितम्ब पकड़कर उन्होंने ही धक्का मार कर लण्ड चूत में ले लिया।
फिर तो मैंने आव देखा ना ताव और एक जोरदार धक्का मारकर पूरा लण्ड जड़ तक अन्दर डाल दिया। मेरे होंठ उनके होंठों पर ही थे इसलिये मुझे लगा कि वो जैसे चिल्ला रही हैं, पर होंठों के चिपके होने के कारण चीख दब गई।
तब मेरा ध्यान उनकी आँखों पर गया तो मैंने देखा कि वो रो रही है, तो मैंने भी थोड़ी देर उनके ऊपर पड़े रहना ही उचित समझा और धीरे-धीरे उनके मम्मों को चूसता और दबाता उनकी छाती पर लेटा रहा।
वो धीरे-धीरे सामन्य हो रही थी और धीरे-धीरे अपने चूतड़ उठा कर धक्के देने लगी। फिर मैंने भी अपने धक्के चालू कर दिए। करीब 10-12 मिनट के बाद उन्होंने मुझे कस कर पकड़ लिया और जोर से मेरी जीभ को चूसने लगी। मेरा तो अब साँस लेना भी मुश्किल हो रहा था। तभी अचानक मुझे मेरे लण्ड पर कुछ पानी जैसा महसूस हुआ, मैं भी अब जोश में धक्के पर धक्के लगा रहा था, पर करीब 20-25 धक्कों के बाद मेरे लण्ड में भी हरकत शुरु हुई और मैंने भी उनको कस कर पकड़ लिया और उनकी जीभ चूसने लगा और फिर मैंने भी अपना सारा लावा उनकी चूत में उडेल दिया, और पस्त होकर उनके नंगे बदन पर लेट गया।
कुछ देर तक हम यों ही पड़े रहे, फिर जैसे ही मैं कपड़े पहनकर जाने लगा, उन्होंने मुझे रोक कर एक लम्बी चुम्मी मेरे होंठों पर दी और मुस्कराते हुए बोली- अब जब भी मन करे, मुझे फोन कर देना, तुम जहाँ बुलाओगे, मैं आ जाऊँगी, मैं आज से तुम्हारी हुई, आज मेरी जिन्दगी का सबसे अच्छा दिन है।
और मैंने भी उनको चूमते हुए उनसे विदाई ली।

Meri friend wanshika मेरी सहकर्मी वंशिका

मेरे ऑफिस की जन संपर्क अधिकारी का नाम वंशिका है। चूँकि हम दोनों हमउम्र हैं इसलिये एक दूसरे से कई प्रकार के मजाक भी कर लेती थीं। उसने बहुत बार मुझे अपने घर चलने को कहा और एक दिन मैं ऑफिस के बाद उसके घर चली गई।
उसके माता-पिता ने मेरा बहुत सत्कार किया और बहुत आदर मान से रात को उनके यहाँ रुकने को कहा। मैं उनका आग्रह टाल नहीं सकी और मैंने पूजा को फोन करके बता दिया कि मैं रात को अपनी सहकर्मी वंशिका के घर पर रुकूँगी।
रात को खाना खाने के बाद हम दोनों वंशिका के कमरे में चली गईं। वंशिका ने मुझे अपनी एक टी-शर्ट और पायजामा दिया तो मैंने सिर्फ टी-शर्ट पहन ली और अपनी पैंटी में ही उसके साथ बिस्तर में घुस गई और हम दोनों बातें करने लगी।
बातों बातों में वंशिका मुझसे लड़कों के साथ चुदाई के बारे में बातें करने लगी। हम दोनों ऑफिस के लड़कों और दूसरे लड़कों के बारे में बातें करते रहे। मैंने उसे पूजा के साथ अपने यौन सम्बंधों के बारे में बता दिया और यह भी बताया कि किस प्रकार हम दोनों बहुत बार एक ही लड़के के साथ चुदाई करती हैं।
मैंने देखा कि हम दोनों थोड़ी सी उत्साहित हो गई थीं। वंशिका मुझे सैक्स के बारे में लगातार छेड़ रही थी और मेरी जांघ को सहला रही थी। मैं उत्तेजित होने लगी और लड़के के लण्ड के बारे में सोचने लगी। मेरी साँस कुछ भारी हो गई थी और मेरी चूत भी गीली हो गई थी।
कुछ देर बाद हम दोनों लेट गईं तो मैंने देखा कि वंशिका भी गहरी साँसें ले रही थी और उसके मोम्मे उसके साँस लेने से ऊपर नीचे हो रहे थे। मेरा दिल किया कि उनको दबा दूँ परंतु चूँकि आज से पहले तक हम दोनों के बीच में कभी कोई अंतरंग बातचीत नहीं हुई थी, केवल हँसी मजाक ही हुआ था, इसलिए मुझे डर था कि कहीं वंशिका बुरा ना मान जाए।
थोड़ी देर में मुझे लगा कि वंशिका सो गई है। तभी वंशिका ने करवट लेकर अपना चेहरा मेरी ओर कर लिया और अपनी एक टांग मेरे ऊपर रख कर सो गई।
"वंशिका ! सो गई क्या?" मैंने धीरे से उसे आवाज़ दी।
जब कोई जवाब नहीं मिला तो मैंने सोचा कि वंशिका सो गई है और अब मैं बाथरूम में जाकर अपनी चूत को उंगली से शांत कर सकती हूँ।
मैंने बड़े आराम से उसकी बाँह को अपने ऊपर से हटाना चाहा ताकि वंशिका की नींद ना खुल जाए और मैं बाथरूम जा सकूँ।
तभी वंशिका हिली और बोली,"शालू कहाँ जा रही है?"
"नहीं कहीं भी तो नहीं!" और मेरी बाथरूम में अपनी चूत को शांत करने की आशा पर पानी फिर गया।
"फिर ठीक है!" वंशिका ने कहा और उसने मेरे गाल को चूम लिया।
मैंने भी करवट लेकर उसकी ओर मुँह कर लिया और अब हम दोनों के चेहरे आमने सामने थे। वंशिका ने अपनी एक बाँह मेरी गर्दन के नीचे डालने की कोशिश की तो मैंने अपनी गर्दन थोड़ी सी उठा कर उसको अपनी बाँह मेरी गर्दन के नीचे डालने की जगह दे दी। मैंने अपनी गर्दन उसकी बाँह पर रख दी और अपनी दूसरी बाँह उसके ऊपर लपेट कर उसके थोड़ा और पास हो गई। अगर मैं घर पर पूजा के साथ होती तो कोई समस्या नहीं थी क्योंकि वहाँ उसके सामने भी मैं अपनी चूत में उंगली डाल कर अपनी चूत को शांत कर सकती थी परंतु यहाँ वंशिका के घर पर उसके सामने अपनी चूत कैसे शांत करूँ मुझे समझ नहीं आ रहा था इसलिए मैं चुपचाप लेटी रही।
मैंने धीरे से वंशिका के चेहरे को चूम लिया,"शुभ रात्रि !"
अचानक मुझे पूजा की याद आ गई और मैंने एक बार फिर से वंशिका को चूम लिया। फिर मुझे लगा कि शायद मैंने यह ठीक नहीं किया और तभी वंशिका ने मेरा सिर अपने और पास करने की कोशिश की। एक बार मुझे लगा कि शायद वंशिका भी यही चाहती है और मैंने उसे फिर से चूम लिया।वंशिका ने अपनी आँखें खोल लीं और मुझे होंठों पर चूम लिया। मेरी एक हल्की सी आह निकली और मेरा दिल जोर से धड़कने लगा।
वंशिका ने अपना चेहरा मेरे और पास किया और मेरे होठों को चूसने लगी। अब मैं समझ गई कि वंशिका भी उत्तेजित है, मैं उसका साथ देने लगी,"ओह वंशिका ! तुझे नहीं पता कि तू कितनी सैक्सी है और तेरे यह गुलाबी होंठ कितने स्वादिष्ट हैं !"
वंशिका कुछ नहीं बोली और मुझे चूमती रही। फिर उसने मुझे इशारे से अपने ऊपर आने को कहा। मैं उसके ऊपर आ गई और अपनी चूत को वंशिका की चूत पर दबाने लगी। मैं अपना चेहरा थोड़ा नीचे कर के बिल्कुल वंशिका के चेहरे के सामने ले आई और उसकी आँखों में देखने लगी। मैं वंशिका के होठों के आस पास चाटने लगी और उसके होठों को हल्के हल्के काटती हुई उसके होंठों को अपने होंठों में दबा कर चूसने लगी।
मैंने थोड़ा ऊपर हो कर अपनी टी-शर्ट उतार दी तो वंशिका ने अपने हाथ मेरे पीछे कर के मेरी ब्रा के हुक खोल दिये और मैंने उसे उतार कर फ़ेंक दिया। वंशिका ने मेरी गाण्ड पर हाथ फेरते हुए मेरी पैंटी भी नीचे कर दी तो मैंने उसे भी उतार दिया और फिर से वंशिका के होठों को चूसने लगी।
हम दोनों पलटी, मैंने वंशिका के कपड़े भी उतार दिये और उसको फिर से नीचे लिटा कर उसके ऊपर चढ़ गई और अपनी चूत से उसकी चूत पर धक्के देने लगी।
वंशिका ने मेरे एक चुचूक को अपनी उंगली से दबा दिया। मैं जोर से चिंहुकी तो वंशिका हँस कर कहने लगी,"शालू तुझे ऐसे मज़ा आता है?"
मैंने हाँ में सिर हिलाया तो उसने दोबारा मेरे चुचूक दबा दिये।
"तेरी चूत तो बहुत गरम हो गई है ! तेरी चूत के पानी से मेरी चूत गीली हो रही है ! मुझे पता है कि अब तेरा दिल चुदाई का कर रहा है ! है ना?" कहते हुए वंशिका ने मुझे नीचे किया और मेरे ऊपर आकर मुझे चूमने लगी।
वंशिका अपने दोंनों हाथों से मेरे मोम्मे दबा रही थी। मेरी चूत बहुत गीली थी और मैं एक हाथ से वंशिका के बालों को सहलाते हुए दूसरे हाथ से अपनी चूत को सहला रही थी। वंशिका धीरे-धीरे अपना मुँह मेरे मोम्मों तक ले गई और उन पर टूट पड़ी,"शालू तेरे मोम्मे कितने बड़े हैं ! मोटे मोटे गद्दे जैसे ! लड़कों को इनको चोदने में मज़ा आता होगा ना?" वंशिका का पूरा ध्यान मेरे मोम्मों पर था, मेरी सिसकारियाँ निकल रहीं थीं,"आह्ह! वंशिका, चूस, और जोर से चूस मेरे मोम्मे ! काट ले इनको !"
और वंशिका मेरे मोम्मों को और जोर से दबाने और चूस चूस कर काटने लगी। मैंने अपने दोनों हाथों से वंशिका की गाण्ड को दबाना शुरू कर दिया। धीरे से मैंने अपना एक हाथ वंशिका की चूत पर रखा और उसकी चूत को सहलाने लगी।उसकी चूत भी बहुत गीली थी। मैं अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल कर हिलाने लगी। वंशिका मेरे ऊपर से उतर कर मेरे साथ लेट गई और उसने भी मेरी चूत में अपनी एक उंगली डाल दी। मैंने धीरे से अपनी दूसरी उंगली भी वंशिका की चूत में डाल दी और अंदर-बाहर करने लगी। वंशिका ने अपनी उंगली मेरी चूत से निकाल कर मेरे बालों को खींचते हुए मेरे होंठों को जोर जोर से चूसना शुरू कर दिया तो मैं समझ गई कि अब वो मस्त हो गई है। मैं अपनी उँगलियों को उसकी चूत के अंदर-बाहर करने की गति धीरे धीरे बढ़ाने लगी। जैसे जैसे मेरे हाथ की गति बढ़ती वंशिका की सिसकारियों की आवाज़ भी उतनी जोर से आती।
मैं धीरे धीरे उसके चेहरे गर्दन और मोम्मे चूमती हुई उसके पेट से होते हुए नीचे तक आकर ठीक उसकी चूत के कुछ ऊपर उसको चूमने लगी। कुछ देर तक वहाँ चूमने-चाटने के बाद मैं उसकी चूत के बिलकुल ऊपर चाटने लगी। मुझे बहुत मादक सुगंध आ रही थी।
मैंने जोर से वहाँ सूँघा और बोली,"वंशिका, तेरी चूत की खुशबू से तो किसी भी लड़के का लण्ड खड़ा हो जाएगा !"
मैंने उसकी चूत को उँगलियों से चोदने की गति बढ़ाई और साथ ही उसकी चूत को जोर जोर से चाटने लगी।
वंशिका ने मेरे सिर को अपनी जांघों में दबा रखा था और दबी आवाज़ में जोर जोर से साँसें भर रही थी। तभी वंशिका झड़ गई और अपना सिर इधर उधर हिलाते हुए ओह आह की आवाजें निकालने लगी।
मैंने अपनी उँगलियाँ बाहर नहीं निकालीं और उसकी चूत को चाट चाट कर साफ़ करने लगी। जब उसका झड़ना शांत हो गया तो वो मेरा सिर पकड़ कर ऊपर खींचने लगी। मैं उसके शरीर को अब नीचे से ऊपर की ओर चूमती हुई उसके चेहरे पर पहुँच गई और उसके होंठों को चूम कर बोली,"वंशिका तेरी चूत तो बहुत स्वादिष्ट है ! दिल कर रहा है कि एक बार और चाट लूँ !"
वंशिका अपनी साँसें संयत होने के बाद मेरा चेहरा चाटने लगी और धीरे धीरे मेरे नीचे की ओर जाने लगी। मेरी गाण्ड को अपने दोनों हाथों से दबाते हुए मेरे मोम्मों तक पहुँच कर उनको चूसने लगी। उसने मेरे चुचूक काटने शुरू कर दिये। फिर नीचे आते आते वो मेरे पेट को चाटती हुई मेरी चूत तक पहुँच गई और मेरी जांघों को चाटने लगी।
मैं अपनी गाण्ड को आगे पीछे करते हुए अपनी चूत को उसके मुँह पर मारने लगी। वंशिका मेरी चूत से लेकर मेरी गाण्ड के छेद तक चाटने लगी और फिर उसने भी अपनी दो उँगलियाँ मेरी चूत में डाल दीं और उन्हें मेरी चूत के अंदर-बाहर करने लगी।
कुछ देर वहाँ चाटने के बाद वंशिका ने मुझे घोड़ी की तरह बनने को कहा।
मैं घोड़ी बन गई तो वंशिका पीछे से मेरी चूत में अपनी उँगलियाँ डाल कर मेरी गाण्ड को चाटने लगी। मैं अपनी गाण्ड को कभी आगे पीछे और कभी ऊपर नीचे कर रही थी। वंशिका ने अपना मुँह बिल्कुल मेरे नीचे कर के अपनी उँगलियों से मेरी चूत को चोदते हुए मेरी जांघों को चाटना शुरू कर दिया।
"आह्ह आह्ह वंशिका ! मेरी वंशिका !" मेरी आहें निकल रहीं थीं,"वंशिका, तू यह क्या जादू कर रही है?" मैं अपनी सांस संयत रखने की कोशिश कर रही थी।
"वंशिका, प्लीज़ ! अब बस कर, मैं झड़ने वाली हूँ !!!" मैंने कहा।
"झड़ जा शालू मेरी जान !!! आज इतनी जोर से झड़ जा ताकि तुझे झड़ने का मज़ा आ जाए !!!" वंशिका कहने लगी।
मेरी आँखें आनंद और उन्माद से पूरी खुली हुई थीं। मैं जोर जोर से अपनी गाण्ड को आगे-पीछे कर रही थी। मेरी गाण्ड का छेद स्वयं खुल और बंद हो रहा था और मेरा दिल कर रहा था कि इस समय कोई लड़का अपना लण्ड मेरी गाण्ड में घुसेड़ दे।"आह्हह्ह !!! ओह्ह्ह्ह !!! वंशिका !!!" मैंने अपना मुँह तकिये में दबा लिया ताकि मेरी चीख की आवाज़ बाहर ना जाए। परंतु वंशिका मेरी जांघों को सहलाते हुए मुझे उँगलियों से चोदती रही और मैं झड़ने लगी। मेरा पानी मेरी चूत से निकल कर वंशिका के हाथों को भिगो रहा था और नीचे बिस्तर पर गिर रहा था।
थोड़ी देर के बाद मैं वैसे ही बिस्तर पर गिर गई और जोर जोर से हांफने लगी।
वंशिका मेरे ऊपर लेट कर मुझे चूमते हुए कहने लगी,"शालू, अब किसी दिन दोनों मिल कर लड़कों के साथ मज़ा करते हैं !"
फिर वंशिका ने मेरी चूत चाट चाट कर साफ़ कर दी और हम दोनों एक बार फिर से एक दूसरे की बाँहों में आ गईं।